Monday, 23 March 2015

आस्ट्रेलिया में यूं खींचनी पड़ी कंगारू की पूंछ, तीसरे शख्स ने कैद की PHOTOS

आस्ट्रेलिया में यूं खींचनी पड़ी कंगारू की पूंछ, तीसरे शख्स ने कैद की PHOTOS

दक्षिण आस्ट्रेलिया में एक कंगारू को पानी पीने के बदले अपनी जान की बाजी लगानी पड़ी। कंगारू ने जैसे ही प्यास बुझाने के लिए एक टिन के बर्तन में मुंह लगाया, उसका गर्दन फंस गया। काफी देर तक उसे परेशानी का सामना करना पड़ा। उसने अपना शरीर हिलाकर टिन से बाहर आने की कोशिश की, लेकिन बर्तन बाहर नहीं आया। तभी दो आदमियों की नजर उस पर पड़ी और 'मिशन कंगारू' शुरू हुआ। यह मामला आस्ट्रेलिया के कॉफीन बे का है।
गोल्फ खेलकर आ रहे बे ने खींची फोटो

फोटोज में सामने आया है कि कंगारू को बचाने के लिए जबरदस्त मेहनत करनी पड़ी। हालांकि कई लोग कह रहे हैं कि अगर दो व्यक्ति उसे बचाने के लिए तुरंत नहीं पहुंचे होते तो उसकी जान जा सकती थी। इआन बेरी पास में ही गोल्फ कोर्स से एक राउंड गोल्फ खेलकर बाहर आ रहे थे, तभी उनकी नजर इस कंगारू पर पड़ी। उन्होंने देखा कि दो आदमी रस्सी और टिन कटर लेकर कंगारू को बचाने के लिए प्रयास कर रहे हैं।
टिन कटर से काटा
बेरी ने बताया कि पहले तो उन्होंने टिन को रस्सी से बांध कर खींचने की कोशिश की और तभी दूसरा शख्स कंगारू की पूंछ खींचने लगा। लेकिन यह जुगाड़ काम नहीं आया। इसके बाद टिन को कटर से काटा गया और कंगारू बाहर निकला।कंगारू को बचाने वाले आदमी का नाम रॉब स्मिथ और स्टीव डीव बताया जाता है।

130 साल पहले हुई थी फिल्म दिखाने की शुरुआत


22 मार्च 1895 को लुमियर ब्रदर्स ने पेरिस में पहली बार फिल्म दिखाई थी। ये दो भाई थे लुई और एंटोनी। वे अपने आसपास के वीडियो बना लेते थे। उसे उसी रूप में लोगों को दिखा देते थे। पहले शो में उन्होंने एक फैक्ट्री से मजदूरों को बाहर निकलते हुए दिखाया। वे दुनियाभर में घूम-घूमकर खुले थिएटरों में अपने वीडियो दिखाने लगे। 1900 में उन्होंने पेरिस में 99 गुणा 79 फुट के एक बड़े पर्दे पर दिखाया। इसके बाद वह फिल्में दिखाना बंद कर फिल्म बनाने की तकनीक, मशीने बनाने और बेचने का काम करने लगे।
खास बात

पीडब्ल्यूसी के मुताबिक 2013 में दुनियाभर की फिल्म इंडस्ट्री ने 88.3 बिलियन डॉलर रेवन्यू जुटाया। 2013 में भारत को 3.7 बिलियन डॉलर रेवन्यू मिला।

250 बार ड्राइविंग टेस्ट दे चुकी है ये महिला, एक बार भी नहीं कर पाई पास

250 बार ड्राइविंग टेस्ट दे चुकी है ये महिला, एक बार भी नहीं कर पाई पास

लंदन| यूके की एक महिला पिछले 14 साल से ड्राइविंग लाइसेंस हासिल नहीं कर सकी हैं। जेनी मार्स अब तक करीब 250 बार ड्राइविंग टेस्ट दे चुकी हैं। हालांकि, चार बार रोड टेस्ट तक पहुंची। लेकिन एक बार भी इसे पास नहीं कर सकी। इस पर करीब 4.6 लाख रुपए खर्च हुए हैं। इस वजह से इन्हें यूके के सबसे खराब ड्राइवर का खिताब दिया गया है। 31 साल की जेनी कहती हैं कि एक दिन वो इस टेस्ट को पास करके ही दम लेंगी।